Dhoni gave 1 lakh donation for covid-19 or not

आजकल महेंद्र सिंह धोनी बिना कुछ कहे भी खूब सुर्खियों में है. खबर यह फैल रही है कि उन्होंने Covid-19 से लड़ने के लिए केवल 1 लाख रुपए दिए हैं. आखिर क्या है पूरा सच? किसने फैलाई है यह अफवाह?

Coronavirus effected on whole worldभारत में Covid-19 जैसी बड़ी महामारी फैल चुकी है. पूरा विश्व इस गंभीर दौर से गुजर रहा है. भारत में 45 लोगों की मृत्यु हो चुकी है जिनमें से 10 लोगों की मृत्यु 1 अप्रैल को हुई है.

मृत्यु के अलावा भारत में 1590 लोग Covid-19 से संक्रमित हैं. वहीं केवल 1 अप्रैल को इसके 193 पॉजिटिव मामले भारत में सामने आए हैं. मृत्यु दर लगातार बढ़ती जा रही है, संक्रमित व्यक्तियों की संख्या में भी लगातार वृद्धि हो रही है.

ऐसे में भारतीय सरकार अकेले करे तो करे क्या? सरकार को भारत की बड़ी-बड़ी हस्तियों से यह उम्मीद है कि वह ऐसी स्थिति में मदद के लिए सामने आए.

ऐसी विकट स्थिति में अक्षय कुमार 25 करोड़, प्रभास 4 करोड़, टाटा ट्रस्ट एवं टाटा संस 1500 करोड़, पेटीएम 500 करोड़, गौतम अडानी 100 करोड़, कोटक महिंद्रा 60 करोड़ एवं अन्य हस्तियों ने भी अपना योगदान दिया है.

Indian Cricketers donate for covid-19भारतीय क्रिकेटरों की बात करें तो गौतम गंभीर 1 करोड़, सुरेश रैना 52 लाख, सचिन तेंदुलकर 50 लाख एवं इन सबके अलावा विराट कोहली, शिखर धवन, रोहित शर्मा सौरव गांगुली जैसे अन्य क्रिकेटरों ने भी अपना योगदान दिया है.

लेकिन लोगों की निगाहें तो उनके हीरो Dhoni पर टिकी है. करोड़ों चाहने वाले फैंस से उनके. वह Dhoni जिन्होंने भारतीय क्रिकेट को एक ऊंचा ओहदा दिलाया. साल 2011 में वनडे विश्व कप जीता कर पूरे भारत को गर्व महसूस कराया. इससे पहले उन्होंने साल 2007 में वर्ल्ड T20I की ट्रॉफी भारत की झोली में डाल दिया था. जब तक अंत तक ना लड़े हार स्वीकार नहीं करते हैं, विकट परिस्थितियों में मैदान पर जूझने की अकल्पनीय सकती है महेंद्र सिंह धोनी के पास.

Dhoni donate only 1 lakh for covid-19इस बीच एक खबर सनसनीखेज की तरह फैल रही है. Coronavirus यानी Covid-19 से लड़ने के Dhoni ने केवल 1 लाख रुपए दिए हैं. इससे छोटे-छोटे क्रिकेटरों एवं अन्य खिलाड़ियों ने तो इससे ज्यादा दिए हैं. ना तो धोनी के पास संपत्तियों की कमी है ना रुपयों की!

Sakshi Singh Dhoni said about Dhoni 1 lakh donationलोग बड़े हैरान हैं. और खासतौर पर उनके फैंस. वह विश्वास नहीं कर पा रहे हैं. वह विश्वास करें भी तो करें कैसे?स्वयं उनकी बीवी साक्षी सिंह धोनी ने ट्वीट कर कहा है कि “अगर माही ने कोविड-19 से लड़ने के लिए केवल 1 लाख रुपए दिए हैं तो मैं वह पहली इंसान हूं जो इससे बहुत उदास है.

इतनी अफवाहें उड़ गई. मीडिया वालों ने भी इसे हवा देने का काम किया. इन सबके बावजूद कहां है MS Dhoni? क्यों वह कुछ नहीं कहते? अचानक से कहां गायब हो गए? और भी कई तरह के सवाल लोगों के जहन में उठ रहे हैं. आखिर क्या है सच्चाई? किसने यह झूठी खबर सबसे पहले फैलाई है?

वास्तव में महेंद्र सिंह धोनी हम सबकी सोच से भी ऊंचे कद के हैं. यूं कह ले वह भारत का हीरा है जो हमेशा मुसीबत के समय में सहायता के लिए आगे रहते हैं. हमने कई बार देखा है कि धोनी ने भारतीय सेना के साथ मिलकर देश की सेवा की है और देश के हित के लिए कई डोनेशन भी दिए हैं.

जब से Covid-19 ने भारत में आतंक फैलाना शुरू किया है तभी से Dhoni अचानक से नहीं दिखे हैं. उनकी एक झलक देखने के लिए फैंस तरस रहे हैं.

Dhoni practice on chidambaram stadium for IPL 2020बता दें, आखरी बार धोनी को चिदंबरम स्टेडियम पर 15 मार्च तक IPL2020 के लिए चेन्नई की टीम के साथ प्रैक्टिस करते हुए देखे गए. इस प्रैक्टिस में धोनी के साथ सुरेश रैना, करण शर्मा व हरभजन सिंह भी दिखे थे. विदेशी खिलाड़ियों का वीजा Corona की वजह से रद्द कर दिया गया था. इसलिए विदेशी खिलाड़ी प्रैक्टिस में शामिल नहीं थे.

धोनी अपने सोशल मीडिया ट्विटर और इंस्टाग्राम पर 14 फरवरी तक एक्टिव दिखे थे, जिसमें उन्होंने एक पोस्ट किया था. लिखा था, “जब आप अपने सामने बाघ को देखते हैं तो आपको वह तस्वीरें लेने के लिए बाध्य करता है. कान्हा टाइगर रिजर्व विजिट, करें बहुत शानदार है.”

यह भी पढ़ें:- Corona संकट के बीच यहां करें निवेश, होगी मोटी कमाई

MS Dhoni को लेकर उड़ रहे अफवाह पर हमने ठीक तरीके से पड़ताल किया. एक ट्विटर यूजर है निर्मला ताई, जो अपने सोशल प्लेटफॉर्म पर सभी तरह की घटनाओं एवं न्यूज़ को शेयर करती है.

Nirmala tai first said that Dhoni donate 1 lakh for covid-19निर्मला ताई ने सबसे पहले ट्विटर पर पोस्ट किया कि “धोनी ने Covid-19 से लड़ने के लिए केवल 1 लाख रुपए दिए हैं. जबकि उनके पास करीब 800 करोड रुपए की कुल संपत्ति है. यह ट्वीट उन्होंने 26 मार्च को की थी. निर्मला ने एक और ट्वीट की थी जिसमें उन्होंने कहा है, “दोनों फेक नहीं बल्कि सच है.”

फिर क्या था मीडिया वालों को तो मसाला चाहिए था और उन्हें मिला भी. एकमात्र मीडिया जिन्होंने इस खबर को सबसे पहले छापी है वह है Economics times. देखते ही देखते यह खबर छोटे-मोटे सोशल साइटों और प्लेटफार्म के जरिए वायरल होने लगी. इसके बाद Dhoni को लोग घृणा के नजरों से देखने लगे. जनता तो भोली भाली है असली गलती तो मीडिया चैनलों की है.

दरअसल सच्चाई यह है कि महेंद्र सिंह धोनी ने पुणे स्थित एक एनजीओ को 1 लाख रूपए दिया है. Corona पीड़ितों के लिए नहीं बल्कि एनजीओ के 12.5 लाख पूरे करने के लिए. जहां 1 लाख रुपए घट रहे थे.

Only Mahendra Singh Dhoniअब आपका आखरी सवाल होगा कि धोनी अपना सहयोग कब देंगे? फिलहाल आपके सुपर हीरो मोहन पर हैं. यह मौन लंबे समय से धारण किए हुए हैं. अब वह कब छुप्पी तोड़ेंगे यह तो बाद में पता चलेगा. जब वह स्वयं आकर इस पर खुलासा करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here